असल मे वही जीवन की चाल समझता है
जो सफर में धूल को गुलाल समझता है