क्या ज़रुरत थी चोट-ए-बेवफाई की,
नादान दिल झूठे वादों में ही खुश था !!