दोस्तों, वर्तमान में इस दुनिया में लोग पढ़ाई, अपने करियर को छोड़कर किसी का किसी के इश्क में पागल हैं. चाहे वो लड़की हो या फिर लड़का, ज्यादातर यही देखा जा रहा हैं. लेकिन आपको बता दें, यह इस कलयुग में नहीं हो रहा हैं. भगवान श्रीकृष्ण ने भी राधा से प्यार किया था. लेकिन उनकी उनकी शादी राधा से नहीं हो पाई थी. लेकिन आज हम आपको यह बताने वाले हैं कि आखिर भगवान श्रीकृष्ण की प्रेमिका राधा की मृत्यु कैसे हुई.

श्रीकृष्ण लीला में श्रीकृष्ण और राधा की प्रेम कहानी का विस्तार से विवरण दिखने को मिलता हैं. आपको बता दें,

जब भगवान श्री कृष्णा वृंदावन छोड़कर मथुरा जा रहे थे तो रास्ते में उन्हें राधा मिली, भगवान श्री कृष्ण ने राधा को अपनी मजबूरी बताई और राधा को फिर से मिलने का वचन दिया. जब भगवान श्री कृष्ण ने राधा को अलविदा कहा तो उसके बाद राधा भगवान श्री कृष्ण का इंतजार करने के लिए यमुना नदी के किनारे एक पेड़ के नीचे बैठ गयी और श्रीकृष्ण का इंतजार करने लगी.

और भगवान श्रीकृष्ण के वियोग में राधा ने इतने आंसू बहाए की यमुना नदी के किनारे दलदल बन गई. और इसी दलदल में डूबने के कारण राधा जी की मृत्यु हो गयी. और उन्होंने अपने प्राण त्याग दिए.

लेकिन जब भगवान श्रीकृष्ण को राधा के बारें में पता चला की वह यमुना के किनारें उनके लिए आंसू बहा रही हैं तो श्रीकृष्ण उनसे मिलने के लिए यमुना नदी के किनारें आये. लेकिन उन्हें वहां राधा नहीं मिली. कुछ लोगों का मानना हैं कि आज भी श्री कृष्ण उस स्थान पर राधा से मिलने के लिए आते हैं. और रास रचाते हैं. इस वजह से वह स्थान पूजनीय स्थल बन चुका हैं.

उम्मीद है दोस्तो आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी अच्छी लगी तो इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लाइक और शेयर करें. और हमारे Facebook Page को like करना ना भुले.