कवि का काम मनुष्य की आत्मा का उद्धार करना नहीं, बल्कि उसे उद्धार का पात्र बनाना है