हर बात केहकर समजाई नहीं जाती,
कुछ बाते दिल में छिपाई नहीं जाती,
आँखे भी बात करने का एक जरिया है,
पर हर किसीके आँखों की बाते समजी नहीं जाती