तेरी दोस्ती ही मेरी “जान” है,
शायद इस हकीकत से तु “अनजान” है,
मुझे खुद नही पता मैं “कौन” हु,
क्योकि तेरी दोस्ती ही मेरी “पहचान” है…